द्विजेन्द्र "द्विज"

द्विजेन्द्र "द्विज" एक सुपरिचित ग़ज़लकार हैं और इसके साथ-साथ उन्हें प्रख्यात साहित्यकार श्री सागर "पालमपुरी" के सुपुत्र होने का सौभाग्य भी प्राप्त है। "द्विज" को ग़ज़ल लिखने की जो समझ हासिल है, उसी समझ के कारण "द्विज" की गज़लें देश और विदेश में सराही जाने लगी है। "द्विज" का एक ग़ज़ल संग्रह संग्रह "जन-गण-मन" भी प्रकाशित हुआ है जिसे साहित्य प्रेमियों ने हाथों-हाथ लिया है। उनके इसी ग़ज़ल संग्रह ने "द्विज" को न केवल चर्चा में लाया बल्कि एक तिलमिलाहट पैदा कर दी। मैं भी उन्ही लोगों में एक हूं जो "द्विज" भाई क़ी गज़लों के मोहपाश में कैद है। "द्विज" भाई की ग़ज़लें आपको कैसी लगी? मुझे प्रतिक्रिया की प्रतीक्षा रहेगी!
********************प्रकाश बादल************************

Thursday, 20 November 2008

ग़ज़ल/21/11/2008

Posted by Prakash badal

औज़ार बाँट कर ये सभी तोड़—फोड़ के
रक्खोगे किस तरह भला दुनिया को जोड़ के

ख़ूँ से हथेलियों को ही करना है तर—ब—तर
पानी तो आएगा नहीं पत्थर निचोड़ के

बेशक़ इन आँसुओं को तू सीने में क़ैद रख
नदियाँ निकल ही आएँगी पर्वत को फोड़ के

तूफ़ान साहिलों पे बहुत ही शदीद हैं
ले जाऊँ अब कहाँ मैं सफ़ीने को मोड़ के

शामिल ही नहीं इसमें हुनरमंद लोग अब
इतने कड़े नियम हैं ज़माने में होड़ के

रहते हैं लाजवाब अब ऐसे सवाल ‘द्विज’!
पूछे तेरा ज़मीर जो तुझको झंझोड़ के

6 comments:

Dr. Amar Jyoti said...

'तूफ़ान साहिलों पे…'
बहुत गहरे भाव बहुत आसान अल्फ़ाज़ में।
बधाई।t

mehek said...

waah sahi mein toofanwala sher bada gazab ka hai,gazal sundar badhai

chandrabhan bhardwaj said...

Bhai Prakash ji,Aapke dwara preshit 'dwij' ki gazal padhi.Behad sunder gazal hai.Khas baat yah hai ki yah bahar men hai.Aap ab kaise kahenge ki meeter men rahane par arth ki hatya ho jaati hai.Yah gazal bahar men bhi hai aur arth itna spastha aur gambhir ki seedhe dil men utar jaye.Itani sunder gazal likhane ke lkiye bhai 'Dwij' ko meri aur se hardik badhai aur aapko is gazal ke preshit karane ke liye dhanyawad.
Chandrabhan Bhardwaj

नीरज गोस्वामी said...

ख़ूँ से हथेलियों को ही करना है तर—ब—तर
पानी तो आएगा नहीं पत्थर निचोड़ के
क्या कहूँ??? लाजवाब या बेमिसाल....द्विज जी मेरे गुरु भी हैं और छोटे भाई समान भी.....इनके लिए दुआ करता हूँ की ऐसी नायाब ग़ज़लें हमेशा लिखते रहें....आमीन
नीरज

abhivyakti said...

bahut sundar.

गौतम राजरिशी said...

"शामिल ही नहीं इसमें हुनरमंद लोग अब / इतने कड़े नियम हैं ज़माने में होड़ के"
कैसे कह लेते हैं सर,इतनी बड़ी बातें इतनी आसानी से और पूरे छ्म्द में?