द्विजेन्द्र "द्विज"

द्विजेन्द्र "द्विज" एक सुपरिचित ग़ज़लकार हैं और इसके साथ-साथ उन्हें प्रख्यात साहित्यकार श्री सागर "पालमपुरी" के सुपुत्र होने का सौभाग्य भी प्राप्त है। "द्विज" को ग़ज़ल लिखने की जो समझ हासिल है, उसी समझ के कारण "द्विज" की गज़लें देश और विदेश में सराही जाने लगी है। "द्विज" का एक ग़ज़ल संग्रह संग्रह "जन-गण-मन" भी प्रकाशित हुआ है जिसे साहित्य प्रेमियों ने हाथों-हाथ लिया है। उनके इसी ग़ज़ल संग्रह ने "द्विज" को न केवल चर्चा में लाया बल्कि एक तिलमिलाहट पैदा कर दी। मैं भी उन्ही लोगों में एक हूं जो "द्विज" भाई क़ी गज़लों के मोहपाश में कैद है। "द्विज" भाई की ग़ज़लें आपको कैसी लगी? मुझे प्रतिक्रिया की प्रतीक्षा रहेगी!
********************प्रकाश बादल************************

Friday, 9 October 2009

मुबारक हो जन्म दिवस !

Posted by Prakash badal





ख़ुदा करे तुम जीओ क़यामत तक, और क़यामत कभी न हो !




द्विज भाई को जन्म दिवस की हार्दिक मंगलाएँ!


ज़ाहिर तौर पर मीटर से बाहर लिखता हूँ लेकिन फिर भी "द्विज" भाई और उनकी ग़ज़लों का दीवाना तो हूँ ही! 10 अक्तूबर का दिन उनका जन्म दिवस है तो मैंने सोचा कि सभी मित्रों से संदेश लेकर उन्हें बधाई देने से बढ़िया और क्या रहेगा!
मैंने सभी मित्रों को मेल किया कि द्विज भाई के जन्म दिवस पर क्यों न उन्हें जन्म दिवस की शुभकामनाएं एक सरप्राईज़ के तौर दी जाए। बहुत से दोस्तों ने द्विज भाई के जन्म दिवस पर शुभ कामनाएं भी है ।
ज़ाहिर है कि हिन्दी ग़ज़लों जो झरना द्विज भाई के घर से निकलता है उसका प्रवाह दूर-दूर तक जाता है। इस युवा ग़ज़लकार को इनके जन्मदिवस मेरी ओर से ढेरों बधाई और मेरी कामना कि ग़ज़लों का यह उदगम इसी प्रकार अच्छी- और धारदार ग़ज़लें देता रहे और ईश्वर इस युवा ग़ज़लकार को लम्बी और स्वस्थ उम्र दराज़ करे।



इस अवसर पर प्रस्तुत है द्विज भाई की एक ग़ज़ल और कुछ साहित्यिक मित्रों के संदेश “ यद्यपि ग़ज़ल पहले पढ़वाई जा चुकी है, फिर भी मौके के अनुसार दोबारा प्रस्तुत की जा रही है ये “द्विज” की ग़ज़ल “द्विज” के लिए ही










नये साल में


ज़िन्दगी हो सुहानी नये साल में

दिल में हो शादमानी नये साल में


सब के आँगन में अबके महकने लगे

दिन को भी रात-रानी नये साल में


ले उड़े इस जहाँ से धुआँ और घुटन

इक हवा ज़ाफ़रानी नये साल में


इस जहाँ से मिटे हर निशाँ झूठ का

सच की हो पासबानी नये साल में


है दुआ अबके ख़ुद को न दोहरा सके

नफ़रतों की कहानी नये साल में


बह न पाए फिर इन्सानियत का लहू

हो यही मेहरबानी नये साल में


राजधानी में जितने हैं चिकने घड़े

काश हों पानी-पानी नये साल में


वक़्त ! ठहरे हुए आँसुओं को भी तू


बख़्शना कुछ रवानी नये साल में


ख़ुशनुमा मरहलों से गुज़रती रहे

दोस्तों की कहानी नये साल में


हैं मुहब्बत के नग़्मे जो हारे हुए

दे उन्हें कामरानी नये साल में


अब के हर एक भूखे को रोटी मिले

और प्यासे को पानी नये साल में


काश खाने लगे ख़ौफ़ इन्सान से

ख़ौफ़ की हुक्मरानी नये साल में


देख तू भी कभी इस ज़मीं की तरफ़

ऐ नज़र आसमानी ! नये साल में


कोशिशें कर, दुआ कर कि ज़िन्दा रहे
द्विज ! तेरी हक़-बयानी नये साल में.






























द्विज भाई के जन्म दिवस पर यूं मिली शुभकामनाएँ:





हर दिल अजीज़ भाई समीर लाल की बधाईयां सबसे पहले न मिले ऐसा कैसे हो सकता है भला। समीर जी ने कहा :
प्रिय प्रकाश भाई,
द्विज जी जन्म दिन के बारे में जानकर खुशी हुई. वो शायद मुझे जानते भी न होंगे लेकिन हम तो शुरु से ही उनके व्यक्तित्व एवं गज़लों के मुरीद हैं. अन्य गज़लकारों का वो जिस तरह निःस्वार्थ मार्गदर्शन करते हैं, वह सराहनीय एवं अनुकरणीय है. उन्हें साधुवाद.ऐसे शुभ अवसर पर मैं उन्हें अपनी बधाईयाँ एवं हार्दिक शुभकामनाएँ देता हूँ.उनकी गज़लों का हमेशा ही इन्तज़ार रहता है.
सादर
समीर लाल


कविता कोश के सम्पादक अनिल जनविजय ने द्विज भाई को एक कविता के माध्यम से बधाई कुछ इस प्रकार भेजी है:
प्रिय द्विज जी को
जिन्हें हम उतना ही प्यार करते हैं
जितना कविता को करते हैं
जिन्हें हम उतना ही प्यार करते हैं
जितना अपने बच्चों को करते हैं
जन्मदिन पर हार्दिक मंगलकामनाएँ।


कवियत्री और सक्रीय ब्लॉगर रंजना भाटिया ने द्विज को बधाई कुछ इस प्रकार से दी है:
“द्विजेंद्र द्विज जी को जन्मदिन की हार्दिक बधाई ईश्वर उनकी हर मनोकामना पूर्ण करे और वह यूँ ही अच्छी अच्छी गजले लिखते रहे “।

युवा ग़ज़लकार प्रकाश सिंह अर्श ने भी द्विज भाई को बधाई दी लेकिन उनकी मेल ग़लती से डिलीट हो गई लेकिन मैने जो पढा उसमें प्रकाश अर्श ने द्विज भाई को अच्छी ग़ज़लें लिखने के लिए बधाई दी है और द्विज भाई की दीर्घायु की कामना की है। प्रकाश भाई मुझे माफ करेंगे जल्दबाज़ी में आपकी टिप्पणी डिलीट हो गई।

युवा ग़ज़लकार दिगम्वर नासवा ने कहा है कि :
प्रकाश जी ......... ये तो बहुत ही अच्छी खबर दी है आपने ...........द्विज जी को हमारी तरफ से जनम दिन की बहुत बहुत शुभकामनाएं .......... भगवान् उनकी कलम में और जादू भरे और हम उनको पढ़ कर आनंदित होते रहें।



चर्चित महिला ब्लॉगर रंजना ने भी द्विज को जन्म दिवस की बधाई कुछ इस प्रकार दी है :
आदरणीय प्रकाश जी ,सूचित करने के लिए बहुत बहुत आभार.....द्विज जी को हमारी ओर से जन्मदिन की अनंत शुभकामनायें दे दें.
सादर
रंजना


सभी के प्यारे और सक्रिय ब्लॉगर, ग़ज़लकार नीरज गोस्वामी ने कहा कि :
प्रकाश जी जान कर बहुत ख़ुशी हुई की भाई द्विज जी का जन्म दिन कल याने दस अक्तूबर को है...विचित्र संजोग हैं जिन दो गुणी जनों ने मुझे ग़ज़ल की पट्टी पढाई उनका जन्म दिन एक दिन के अंतर पर ही आता है याने द्विज जी का दस को पंकज सुबीर जी का ग्यारह अक्तूबर को. द्विज जी को जनम दिन की बहुत बहुत बहुत बधाई...इश्वर उन्हें दुनिया की सारी खुशियाँ अता करे...एक शेर है किसी का उनकी नज़र करता हूँ:
खुदा तो मिलता है इन्सां नहीं मिलता
ये वो शै है जो देखी कहीं कहीं मैंने
द्विज जी इन्सान के रूप में फ़रिश्ता हैं और आज की दुनिया में इस तरह के इन्सान सिर्फ किस्से कहानियों में ही मिलते हैं...उनकी ये सादगी और सबको प्यार बांटने की आदत हमेशा कायम रहे.


युवा कवि हिमांशु पांडे ने तो द्विज भाई की एक अंग्रेज़ी कविता का अनुवाद भी कर डाला और अपनी बधाई कुछ इस प्रकार दी :
प्रकाश जी,आदरणीय द्विज जी को जन्मदिवस की हार्दिक शुभकामनायें । चिट्ठाकारी में आया तो द्विज जी की गजलों से एक आश्वस्ति भाव जागा , रचनाधर्मिता के अंकुर फूटे इस मन विजन में । द्विज जी का स्नेह सदैव आच्छादित करता रहा है मुझे । सरोकार से जुड़ी रचनाधर्मिता, मानवीयता से संपृक्त रचनाधर्मिता एवं निरंतर शुभ भाव संचारित रचनाधर्मिता द्विज जी की पहचान है, और यही कारण है कि द्विज जी मेरे अनन्य प्रिय हैं । पुनश्च द्विज जी को जन्मदिवस की हार्दिक शुभकामनायें । ईश्वर उन्हें दीर्घायु करे । हिमांशु जी द्वारा अनुवाद की गई द्विज की कविता प्रस्तुत है :
चोटियां और गुफ़ायें (Cliffs and Caverns)
ऊंची कठोर शुष्क गिरि-चोटियां
अपने उन्नतशिर होने की डींग हांकतीं हैं, और
उषाकाल से धेनुधूलि बेला तक
रवि-आतप का शोषण करती
ऊबती-पचती रहती हैं ।
सूर्य किरणों का उज्जवल हास
अभिशप्त शैल-कंदराओं को
कभी सुलभ नहीं होगा? कभी नही ।
हमें तो समतल धरा की गोद चाहिये
कौन जाय ऊंची चोटियों का कलेजा विदीर्ण करने
और उन्हें ध्वस्त कर
गुफ़ा-गर्भ की अधोगति प्रदान करने,
वह उनकी शाश्वत नियति है
वे सोखती ही रहेंगी धूप को
और बघारती ही रहेंगी
अपने उन्नत श्रृंग की शेखी,
गुफ़ायें अंध-तमिस्रा में ठिठुरती ही रहेंगी.
वैसे इस संदर्भ में यदि द्विज जी से अनुमति लेनी ठीक और आवश्यक हो तो आप ले लेंगे । मूल कविता भी उनसे प्राप्त की जा सकती है । शेष आपकी इच्छा ।
आपका,
हिमांशु



कुछ शुभकामनाएं देर से मिली लेकिन इन्हें प्रकाशित करना ज़रूरी लगा




युवा कवि,पत्रकार और द्विज भाई के अनुज नवनीत शर्मा कहते हैं:

पिता तुल्य,प्रेरणापुंज खुद तकलीफ सहकर भी छोटों को सुख देने वाले ,क़ॉलेज के दिनों में जेब ख़र्च बचाकर सारिका ख़रीदकर पढ़ने वाले और मुझे भी उसकी आदत डालने वाले आदरणीय भाई द्विज को जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनाएं।


ग़ज़लकार माधव कौशिक जी ने भी द्विज भाई को जन्म दिन के शुभकामनाएं भेजी है माधव जी ने कुछ यूँ लिखा है:
भाई द्विज को जन्म दिन की लाख-लाख बधाई. भगवान करे वे इसी तरह अदब के आसमान पर चमकते रहें ।

11 comments:

seema gupta said...

आदरणीय द्विजेंद्र द्विज जी को जन्मदिन की हार्दिक बधाई .

regards

आशुतोष दुबे 'सादिक' said...

द्विजेंद्र द्विज जी को जन्मदिन की हार्दिक बधाई .

हिन्दीकुंज

Nirmla Kapila said...

आदरणीय् द्विजेन्द्र द्विज जी को जन्म दिन की हार्दिक मंगल कामनायें। गज़ल लाजवाब है । आभार्

"अर्श" said...

मैंने जो बधाई सन्देश में जो लिखा था वो आपको टिप्पणी में लिख देता हूँ,..
भाई प्रकाश जी ,
गुरु सरीखे बड़े भाई श्री द्विजेन्द्र द्विज जी को मेरा सबसे पहले तो सादर प्रणाम, आप आज हिन्दुस्तान के अग्रणी शईरों में शुमार हैं जो नाहक ही अपनी गज़ब की ग़ज़ल शैली जिसमे मिट्टी की खुश्बु दाल रोटी की महक बरसात का छमाछम , माद्यम बयार और ना जाने क्या क्या जिसकी तह तक हम शायद पहुँच भी नहीं सकते और आप उसे बेतरतीबी से लिखते हैं , इसमे आपकी संवेदनशीलता झलकती है , जीतनी खुबसूरत ग़ज़ल कहते है उससे कहीं बढ़कर आप एक अछे इंसान है जहां आप सभी को सलाह देते हैं और सच्चा मार्गदर्शन करते हैं ,आपको आज आपके जन्म दिन के इस मुक़द्दस मौके पर इस नाचीज के तरफसे ढेरो बधाईयाँ और शुभकामनाएं .... बस ऊपर वाले से यही दुआ करूँगा के आपको हमेशा ही सलामती बख्शे और दुनिया के उन तमाम खुशियों से भर दे जिसकी आपको चाहत हो .... आमीन

आपका अनुज
अर्श

raj said...

best wishes..may dis b`day brings lots of pleasant surprises n lots of joy n happiness to u....

राज भाटिय़ा said...

द्विजेंद्र द्विज जी को जन्मदिन की हार्दिक बधाई .

संजीव गौतम said...

आदरणीय द्विज जी को उनके जन्म दिवस पर कोटि-कोटि बधाएयों के साथ मेरा प्रणाम.

रंजना said...

प्रकाश जी ,आपका यह प्रयास ( सरप्राइज वाला) अत्यंत सराहनीय है....

आदरणीय द्विज जी को जन्मदिन की अनंत शुभकामनाएं .......ईश्वर उन्हें दीर्घायु करें और उनकी लेखनी यूँ ही अबाध चलती रहे और सुन्दर सार्थक लेखन से साहित्य को समृद्ध करती रहे...

Yogesh said...

जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई !!!

वैसे हमें कुछ खास लिखना तो नहीं आता, मगर कुछ सुना सुनाया सा याद आ रहा है, जो इस मौके पर अर्ज़ करना चाहूँगा

दिये में इतना नूर न होता
ये शक्स भी इतना मजबूर न होता
हम खुद आते तुम्हें मुबारकबाद देने
गर आशियां तुम्हारा इतना दूर ना होता
--अज्ञात

जन्मदिन की फिर से बहुत बहुत बधाई

गौतम राजरिशी said...

एक दिन विलंब से आ रहा हूं प्रकाश भाई...वैसे कल द्विज जी से बात हो गयी थी मोबाइल पर...

उनकी ग़ज़लों का जादू हमसब पर यूं ही सर चढ़ कर बोलता रहे साल-दर-साल...और वो सफलता का हर मुकाम छूयें, येही दुआ है हमसब की अपने इस प्यारे-दुलारे शायर के लिये

manu said...

काफी लेट हो गए हां तो....
जाने हमारी शुभकामनायें बादल भी पहुँचायेंगे भी या नहीं...?
:)
पर हैप्पी बर्थ डे कहने में दिन... और गुड मोर्निंग कहने में टाइम ... देखने की आदत नहीं है...
मुबारक हो भाई जान ............!!!!!!!!