द्विजेन्द्र "द्विज"

द्विजेन्द्र "द्विज" एक सुपरिचित ग़ज़लकार हैं और इसके साथ-साथ उन्हें प्रख्यात साहित्यकार श्री सागर "पालमपुरी" के सुपुत्र होने का सौभाग्य भी प्राप्त है। "द्विज" को ग़ज़ल लिखने की जो समझ हासिल है, उसी समझ के कारण "द्विज" की गज़लें देश और विदेश में सराही जाने लगी है। "द्विज" का एक ग़ज़ल संग्रह संग्रह "जन-गण-मन" भी प्रकाशित हुआ है जिसे साहित्य प्रेमियों ने हाथों-हाथ लिया है। उनके इसी ग़ज़ल संग्रह ने "द्विज" को न केवल चर्चा में लाया बल्कि एक तिलमिलाहट पैदा कर दी। मैं भी उन्ही लोगों में एक हूं जो "द्विज" भाई क़ी गज़लों के मोहपाश में कैद है। "द्विज" भाई की ग़ज़लें आपको कैसी लगी? मुझे प्रतिक्रिया की प्रतीक्षा रहेगी!
********************प्रकाश बादल************************

Friday, 10 April 2009

...चुटकी में

Posted by Prakash badal

भाई सतपाल"ख़्याल" ने एक महफिल सजाई "आज की ग़ज़ल" पर जिसमें मिसरा-ए-तरह "कभी इन्कार चुटकी मे,कभी इक़रार चुटकी मे" पर ग़ज़ल कही जानी थी। बड़े-बड़े शायरों ने इसमें भाग लिया और ये बहुत ही सफल आयोजन रहा। यहाँ पर "द्विज "भाई के काफियों का पिटारा जो खुला तो खुलता ही गया हमेशा की तरह। यह ग़ज़ल आपकी नज़्र कर रहा हूँ। -प्रकाश बादल




मिटा दे तू मेरे खेतों से खरपतवार चुटकी में
तो फ़स्लें मेरे सपनों की भी हों तैयार चुटकी में

हवा के रुख़ से वो भी हो गये लाचार चुटकी में
हवा का रुख़ बदल देते थे जो अख़बार चुटकी में

कभी अँधियार चुटकी में कभी उजियार चुटकी में
कभी इन्कार चुटकी मे,कभी इक़रार चुटकी मे

भले मिल जाएगा हर चीज़ का बाज़ार चुटकी में
नहीं बिकता कभी लेकिन कोई ख़ुद्दार चुटकी में

बहुत थे वलवले दिल के मगर अब सामने उनके
उड़न-छू हो गई है ताक़त-ए-गुफ़्तार चुटकी में

अजब तक़रीर की है रहनुमा ने अम्न पर यारो !
निकल आए हैं चाकू तीर और तलवार चुटकी में

तरीक़ा, क़ायदा, क़ानून हैं अल्फ़ाज़ अब ऐसे
उड़ाते हैं जिन्हें कुछ आज के अवतार चुटकी में

कभी ख़ामोश रहकर कट रहे रेवड़ भी बोलेंगे
कभी ख़ामोश होंगे ख़ौफ़ के दरबार चुटकी में

वो जिनकी उम्र सारी कट गई ख़्वाबों की जन्न्त में
हक़ीक़त से कहाँ होंगे भला दो-चार चुटकी में

नतीजा यह बड़ी गहरी किसी साज़िश का होता है
नहीं हिलते किसी घर के दरो-दीवार चुटकी में

डरा देगा तुम्हें गहराइयों का ज़िक्र भी उनकी
जो दरिया तैर कर हमने किए हैं पार चुटकी में


परिन्दे और तसव्वुर के लिए सरहद नहीं होती
कभी इस पार चुटकी में कभी उस पार चुटकी में.

बस इतना ही कहा था शहर का मौसम नहीं अच्छा
सज़ा का हो गया सच कह के ‘द्विज’ हक़दार चुटकी में

26 comments:

"अर्श" said...

वाह जी वाह अब द्विज जी के ग़ज़ल के बारे में क्या कहने प्रकाश भाई इनके गज़ल्गोई और आपकी प्रस्तुति का मुरीद हूँ मैं तो ... ढेरो बधाई...

अर्श

कंचन सिंह चौहान said...

डरा देगा तुम्हें गहराइयों का ज़िक्र भी उनकी
जो दरिया तैर कर हमने किए हैं पार चुटकी में

परिन्दे और तसव्वुर के लिए सरहद नहीं होती
कभी इस पार चुटकी में कभी उस पार चुटकी में.

Gautam Ji ke blog par padha tha, ek sher.... vahiN bahut achchha laga tha, fir se badhaai

Anonymous said...

चुटकी से हो गया,प्यार चुटकी में, माउस पर चुटकी चला कर,होना होगा बहार चुटाकी मे.

mehek said...

waah bahut sunder kafiye hai aur gazal to lajawab hai hi.

Yogesh said...

Bahut hii sundar Dwij bhai...

Kamaal karte ho...

कुछ शेर तो बहुत ही अच्छे थे। गज़ल बहुत उन्दा है।

दिगम्बर नासवा said...

उन्दा है गज़ल बहुत .........
thanks for making it read 2nd time

SWAPN said...

डरा देगा तुम्हें गहराइयों का ज़िक्र भी उनकी
जो दरिया तैर कर हमने किए हैं पार चुटकी में

bahut hi sunder dwij ji , prakash ji ka dobara gazal se rubaru karane ke liye dhanyawaad, gazal ke sabhi sher to lajawaab hain hi.bila shak.

महावीर said...

बेहतरीन ग़ज़ल है। सारे ही अशा'र एक से एक बढ़कर हैं। इसमें तो शक़ ही नहीं कि आप रदीफ़ और क़ाफ़िये के तो बादशाह हैं जो इस ग़ज़ल में बरक़रार हैं। अगर कुछ नई नई बातों की ख़्वाहिश हो तो इस ब्लाग पर आने से बहुत कुछ मिल जाता है।

गौतम राजरिशी said...

प्रकाश भाई ये इतने लंबे समय तक के लिये यूँ कहाँ गायब हो जाते हो आप...
द्विज जी की इस ग़ज़ल पे तो क्य कहें...ये तो हमारी खुशनसीबी है कि हमें इनकी गज़ल के साथ मंच साझा करने का मौका मिला...जहे-नसीब

आप कैसे हैं?

अल्पना वर्मा said...

बहुत ही सुन्दर ग़ज़ल.

PRAN SHARMA said...

AAPKEE GAZAL KE SABHEE SHER ACHCHHE
HAIN-
RAWAANEE DEKH KAR INKEE
MEREE SARKAR LAGTAA HAI
KAHE HAIN AAPNE JAESE
SABHEE ASHAAR CHUTKI MEIN
BADHAAEE

Dr. Amar Jyoti said...

सारे ही शेर एक से बढ़ कर एक हैं।
किसका ज़िक्र करें और किसे छोड़ें?
हार्दिक बधाई।

Sujata Dua said...

prakaash ji ,
saadar namaskaar ,
main bahut din se dwij saahab kee gajalen padh rahee hoon ..unke liye kuch bhee kehnaa sooraj ko diyaa dikhaanen jaisaa hai .....aap ke prayaas ke ham ehsaammand hue ..aur jab saagar saahab ka kalaam padha to ek ekshabd roh main utartaa lagaa ...unkaa kaha har lafj jidgee ke anubhav jal se seenchaa hua hai ...
aap bahut kismat waale hain kee aapko unkaa saanidhya praapt hai

Harkirat Haqeer said...

द्विज जी इस बार तो चुटकी में माशाल्लाह बहोत कुछ हो गया हमारे ब्लॉग पर और आप खैर खबर लेने भी नहीं आये ...और यहाँ तो आप भी चाकू तीर और तलवार निकले बैठे हैं .....

अजब तक़रीर की है रहनुमा ने अम्न पर यारो !
निकल आए हैं चाकू तीर और तलवार चुटकी में

वाह जी वाह....!!

डरा देगा तुम्हें गहराइयों का ज़िक्र भी उनकी
जो दरिया तैर कर हमने किए हैं पार चुटकी में

माशाल्लाह... आपको गहराईयाँ मुबारक .....!!

परिन्दे और तसव्वुर के लिए सरहद नहीं होती
कभी इस पार चुटकी में कभी उस पार चुटकी में.

बहोत खूब ....!!

नीरज गोस्वामी said...

मैं क्या कहूँ...सोच रहा हूँ...एक एक शेर लाजवाब है...ये होती है उस्तादों की शायरी...हम जैसे लाख कोशिश कर के भी जहाँ पहुँच नहीं पाते वहां ये पहुँच जाते हैं "चुटकी में". द्विज जी की शायरी का मैं दीवाना हूँ और जब वो ऐसे शेर...

अजब तक़रीर की है रहनुमा ने अम्न पर यारो !
निकल आए हैं चाकू तीर और तलवार चुटकी में

डरा देगा तुम्हें गहराइयों का ज़िक्र भी उनकी
जो दरिया तैर कर हमने किए हैं पार चुटकी में

परिन्दे और तसव्वुर के लिए सरहद नहीं होती
कभी इस पार चुटकी में कभी उस पार चुटकी में.

...चुटकी में कह देते हैं तो दीवानगी सर चढ़ कर बोलने लगती है...सुभान अल्लाह...इश्वर से प्रार्थना है की वो हमें उनके अश्हार बार बार लगातार पढने का मौका देता रहे ...आमीन...
नीरज

Anonymous said...
This comment has been removed by a blog administrator.
sandhyagupta said...

Har baar ki tarah man moha aapne.Badhai.

श्याम सखा 'श्याम' said...

मिटा दे तू मेरे खेतों से खरपतवार चुटकी में
तो फ़स्लें मेरे सपनों की भी हों तैयार चुटकी में
सप्नो की फ़स्ल और मिटना खरपतवार का क्या उडान भरी है आपकी कल्पना ने,खूब-ब -खूब द्विज
भाई-श्याम सखा ‘श्याम

Think Chimp said...

Achha Hai ji,Bahot achha hai!

योगेन्द्र मौदगिल said...

बेहतरीन गजल है भाई... सतपाल जी के ब्लाग पर भी इसे पढ़ा था.. बधाई..

raj said...

amazing......shahar ka mousam achha nahi......boht sunder...

raj said...

boht sunder ko or kya kahun???khubsurat??pata nahi kya kahana chiye...achha nahi laga apko??

श्रद्धा जैन said...

aap baat bahut kaaml se kahte ho
karptvaar ka use is tarah gazal mein dekh kar badhi khushi hui
aap naye naye shabdon ka use karte hain aur baat ko bhaut saralta se kahte hain

bahut hi achhi gazal kahi hai

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

अरे वाह, चुटकी चुटकी में बढिया गजल तैयार हो गयी।

-Zakir Ali ‘Rajnish’
{ Secretary-TSALIIM & SBAI }

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी said...

द्विज जी के ग़ज़ल के बारे में क्या कहने ....
मेरा नया ब्लाग जो बनारस के रचनाकारों पर आधारित है,जरूर देंखे...
www.kaviaurkavita.blogspot.com

raj said...

boht din se kuchh likha nahi aapne......w8ing....